1
जब पति पत्नी को यह ज्ञात हो जाये कि गर्भ ठहर चुका है या गर्भाधान हो चुका है तो सहवास न करें।
2
गर्भावस्था के दौरान माता चाय का त्याग करे, उसके स्थान पर गुनगुना दूध या तुलसी का काढ़ा लें।
3
जबहस्थ के दौरान माता चप्पल का भी त्याग करे ,अधिक से अधिक भूमि के सम्पर्क में रहे।
4
गर्भावस्था में झटके के साथ उठना बैठना या चलना फिरना नही चाहिए।
5
गर्भावस्था में पान, सुपाड़ी,तम्बाकू,बीड़ी,सिगरेट या मदिरापान नही करना है।
6
झूठ प्रपंच एवम दुरो की बुराई नही करना है।
7
यदि मांसाहारी हैं तो मांसाहार का इस समय त्याग करना है।
8
माता को अधिक श्रम वाले कार्य नही करना है।ऐसे कार्य करे जिससे गर्भाशय का व्यायाम हो सके।
9
मल मूत्र के वेग को न रोकें।
10
किसी भी तरह का डरावना साहित्य न पढ़ें। सद्साहित्य का अध्ययन कर।
11
गर्भावस्था में टेलीविज़न ओर चलचित्र का त्याग करें। देखना ही हो तो रामायण तथा महाभारत के कृष्ण लीला देखें
12
कुएं के अंदर न झांके।
13
एकदम लाल चटक या काले कपड़े न पहनें इस प्रकार के कपड़ों से बच्चा डरने लगता है।
14
बहुत तेज गति से नही चलना है।
15
बोझ न उठाएं।
16
शरीर को बहुत अधिक टेढ़ा मेढा न करें।
17
सोते समय दाईं या बाई करवट सोएं, पूरी तरह से चित्त या पेट के बल नही सोना है।
19
ऊंची एड़ी की चप्पल या सेंडल न पहनें।
20
तीव्रगामी सवारी न करें।
21
दिन में कम से कम सोएं सम्भव हो तो न सोएं।
22
किसी भी तरह का बासी आहार का सेवन बिल्कुल न करें।
23
उकड़ू नही बैठना है।
24
अकेले डरावने दृश्य भी नही देखना चाहिए।
25
यदि आपके आसपास कोई प्रसव होने वाला है वहां नही जाना।
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *