स्तनपान और दुसरे चीज़े

  1.  बॉटल के दूध से बचें क्योंकि गर्म पानी की सफाई के बावजूद भी बॉटल से संक्रमण का खतरा रहता है। दूध  छुड़ाने का भोजन 6 महीने की उम्र के आसपास ही शुरू किया जाना चाहिए।

2. स्तनपान के अतिरिक्त, हम अनाज दलिया (चावल, सुजी, रागी, आदि), फलों का रस, सब्जी का सूप जैसे तरल पदार्थ दे सकते हैं।

3. 8 महीने तक मूंग-दाल खिचड़ी, उबले हुए और मैश किए हुए आलू, उपमा आदि जैसे थोड़े गाढ़े तरल पदार्थ भी खिला सकते हैं ।

4. 9 महीनों के बाद, चबाने वाला नरम भोजन दिया जा सकता है। एक वर्ष तक, बच्चे को घर पर पकाया जाने वाले अधिकांश भोजन लेना चाहिए।

5.व्यावसायिक तौर पर उपलब्ध दूध देने वाले खाद्य पदार्थ महंगे और सुविधाजनक होते हैं लेकिन ताजे तैयार घर के भोजन से बेहतर नहीं होते|


 

कृपया बगल (कंधे और छाती के बीच ) में थर्मामीटर को कम से कम 1 मिनट

के लिए रखकर तापमान को रिकॉर्ड करें। सामान्य शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस या 98.6 फ़ारेनहाइट है। चिंता करने की जरूरत तब है जब बुखार 100 एफ से ऊपर हो |


  1. tip4_generalबुखार के समय, बच्चे को हल्के कपड़े पहनाए रखें | ऊनी कपड़े से बचें जब तक बच्चे ठंडा महसूस न करें। एक इलेक्ट्रिक पंखे या एयर कंडीशनर के साथ कमरे को ठंडा रखें। अगर बुखार 101 एफ से अधिक है, तो
  2.  10 से 15 मिनट में पानी से शरीर को पोंछ दें। वैसे डॉक्टरों के मुताबिक पैरासिटामोल सबसे सुरक्षित बुखार की दवा है और इसे 4-6 घंटों के भीतर दोहराया जा सकता है।
  3. शरीर में पानी का स्तर बनायें रखें । शिशुओं में, दस्त के दौरान स्तनपान जारी रखने से पानी की कमी होने (dehydration ) के जोखिम में काफी कमी आती है।
  4. बुखार के दौरान, हमेशा दवा देने के लिए सलाह नहीं दी जाती। अगर ब
  5. च्चे का तापमान 100 डिग्री से अधिक हो जाये तभी हमें चिंता होनी चाहिए। और दवा देने का सोचना चाहिए ।हमेशा तापमान जांचने के लिए थर्मामीटर का उपयोग करें ।

tip11_general

अगर बच्चा बार बार बीमार हो रहा हो (भले ही छोटे छोटे लक्षण हो) , तब डॉक्टर के साथ परामर्श करें। हमें कोशिश करनी चाहिए कि हम बच्चे को एक ही डॉक्टर को दिखाएँ – जिसका इलाज बच्चे को जल्दी असर कर रहा हो ।

डॉक्टर के परामर्श के बिना, बच्चे को कोई भी जनरल दवा या सिरप न दें।एंटी बायोटिक दवा देने से हमेशा बचे।

 


 

बच्चों के वरिष्ठ चिकित्सक के अनुसार, ठंड सतह पर बच्चो को बहुत जल्दी सर्दी हो जाती है । सर्दियों के मौसम में , अपने बच्चे को मोज़े पहनकर रखें (हो सके तो घर के अंदर भी)। यह सर्दी -खाँसी आदि को रोकता है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •